शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2009

प्राचीन भारत में सर्जरी के कुछ दर्पण---




<----प्राचीन भारतीय शल्य चिकित्सा के यन्त्र व-शस्त्र( सुश्रुत संहिता)

ये आधुनिक इन्सट्रूमेन्ट्स के ही समान हैं, नाम ,शक्ल व कार्य में।











ऊपर--प्रख्यात भारतीय शल्य-चिकित्सक आचार्यवर सुश्रुत, कान की प्लास्टिक सर्जरी करते हुए। कान की सर्जरी का यह तरीका-सुश्रुत-विधि -कह्लाता है।

1 टिप्पणी:

  1. क्या विज्ञान का जन्म पश्चिम में हुआ??
    पाइथागोरस से पहले आर्यभट्ट, न्यूटन से पहले भास्कराचार्य!

    जानने के लिए पूरा लेख पढ़ें:--

    क्यों आत्मविस्मृत हुए हम??

    उत्तर देंहटाएं

लोकप्रिय पोस्ट

समर्थक

विग्यान ,दर्शन व धर्म के अन्तर्सम्बन्ध

मेरी फ़ोटो
लखनऊ, उत्तर प्रदेश, India
--एक चिकित्सक, शल्य-विशेषज्ञ जिसे धर्म, दर्शन, आस्था व सान्सारिक व्यवहारिक जीवन मूल्यों व मानवता को आधुनिक विज्ञान से तादाम्य करने में रुचि व आस्था है।